Hindi

सेंट सोल्जर लॉ कॉलेज ने बताया डॉ.राधाकृष्णन का जीवन

लॉ कॉलेज

जालंधर 9 सितंबर (जसविंदर सिंह आजाद)- सेंट सोल्जर लॉ कॉलेज द्वारा डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन पर वेबिनार का आयोजन किया गया जिसमें कॉलेज के डायरेक्टर डॉ.सुभाष शर्मा ने छात्रों को डॉ. राधाकृष्णन के बारे में बताते हुए कहा कि वह समूचे विश्व को एक विद्यालय मानते थे। उनका मानना था कि शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है। अत: विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबन्धन करना चाहिए। ब्रिटेन के एडिनबरा विश्वविद्यालय में दिये अपने भाषण में डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने कहा था- “मानव को एक होना चाहिए। मानव इतिहास का संपूर्ण लक्ष्य मानव जाति की मुक्ति तभी सम्भव है जब देशों की नीतियों का आधार पूरे विश्व में शान्ति की स्थापना का प्रयत्न हो।” डॉ॰ राधाकृष्णन अपनी बुद्धि से परिपूर्ण व्याख्याओं, आनन्ददायी अभिव्यक्तियों और हल्की गुदगुदाने वाली कहानियों से छात्रों को मन्त्रमुग्ध कर देते थे। उच्च नैतिक मूल्यों को अपने आचरण में उतारने की प्रेरणा वह अपने छात्रों को भी देते थे। वह जिस भी विषय को पढ़ाते थे, पहले स्वयं उसका गहन अध्ययन करते थे। दर्शन जैसे गम्भीर विषय को भी वह अपनी शैली से सरल, रोचक और प्रिय बना देते थे। इसलिये इनके जन्मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप मे मनाते है। इसके अतिरिक्त सभी ने डॉ.राधाकृष्णन को श्रदांजलि दी। चेयरमैन अनिल चोपड़ा ने कॉलेज प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि छात्र शिक्षकों को महान बनाते हैं और महान शिक्षक छात्रों को महान और अच्छा नागरिक बनाते हैं।