Hindi

गांव कद्ददो और जैपुरा को आपस में मिलाने वाली जमीन का मामला गरमाया

कद्ददो और जैपुरा

लोक इंसाफ पार्टी द्वारा जैपुरा के किसान की जमीन पर जबरदस्ती कब्जा करने के गांव कद्ददो की पंचायत ने दोनों गांव की जोड़ने वाली जमीन को सरकारी बताया
दोराहा/लुधियाना 25 जुलाई (मुनीष विज दोराहा)- दोराहा के साथ लगते गांव कद्ददो और जैपुरा को जोड़ने वाली जमीन का मामला दिन-ब-दिन गर्म आता जा रहा है जिसके चलते आज लोक इंसाफ पार्टी के कोर कमेटी मेंबर इंजीनियर मनविंदर सिंह ग्यासपुर हल्का खन्ना इंचार्ज सर्बजीत सिंह कांग और हल्का पायल के चेयरमैन गुरमीत सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकारी अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए। इस मौके उन्होंने बताया कि इस जमीन पर गांव जैपुरा निवासी किसान कई वर्षों से खेती-बाड़ी कर रहे हैं। इस मौके मनविंदर सिंह ग्यासपुर ने बात करते हुए बताया कि गांव कद्ददो और जैपुरा को आपस में मिलाने वाली जमीन के ऊपर गांव जैपुरा के बलजीत सिंह और सुखविंदर सिंह पिछले लंबे समय से खेती कर रहे हैं परंतु पायल और दोराहा के सरकारी अधिकारी इस जमीन को जबरदस्ती गांव कद्ददो के साथ जोड़ने में लगे हुए हैं। उन्होंने बताया कि किसान द्वारा कुछ दिन पहले एक प्राइवेट फर्म से जमीन की गिनती करवाई गई थी और कानूगो को जमीन को मापने के बारे में सूचित किया गया था परंतु इस मापन के दौरान कोई भी सरकारी अधिकारी उपस्थित नहीं हुआ। उन्होंने बीडीपीओ दोराहा नवदीप कौर से बात करी तो मैडम नवदीप कौर ने ग्यासपुर पर गांव जैपुरा के किसानों से पैसे लेने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जैपुरा गांव के किसान के साथ हो रहे धक्के के खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।
क्या कहना है गांव कद्ददो की पंचायत का
इस मौके गांव कद्ददो के सरपंच परमिंदर सिंह और पंचायत मामलों ने सरकारी कागजात दिखाते हुए कहा कि जिस जमीन को जैपुरा गांव का किसान अपनी बता रहा है वह सरकार की है उन्होंने कहा कि लोक इंसाफ पार्टी के आप अपना नाम चमकाने के लिए इस मामले को उलझा रहे हैं वही लोग इंसाफ पार्टी के पदाधिकारियों ने कहा कि अगर प्रशासनिक अधिकारियों ने सही निर्णय नहीं किया तो इस जमीन के फैसले के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया जाएगा।